Temples

Kinner Kailash

Kinner KailashKinnaur Kailash (locally known as Kinner Kailash) is a mountain in the Kinnaur district of the Indian state Himachal Pradesh. The Kinnaur Kailash has a height of 6050 meters and is considered as sacred by both Hindu and Buddhist Kinnauris. ‘Kinner Kailash‘ is considered winter residence of Lord Shiva. It is said that Lord Shiva conduct a meeting of all Devi-Devtas on Kinner Kailash Top in  month of January. The Trekking to Kinner Kailash Starts from July end to August. 10 days before Janmashtmi special arrangement are made for food and shelter on the top. The Kinner Kailash Trek is of two days start from early morning with a stay in goofa at night, next day the Kinner Kailash visit starts early in the morning reaches the Shiva ling point about 9 AM and there after the Return Journey starts. Kinner Kailash is among Panch Kailashes, Shri Khand Kailash,  Mani Mahesh Lake,  Kailash Mansarover, Aadi Kailash.

 Mount Kinner Kailash: is located in Kinnaur Valley of Himachal pradesh, Its is one of the 5 mount Kailash , Is believed to be the Abode of Lord Shiva, It is said that Lord Shiva regulated the Universe from Mount Kinner Kailash. Earlier the Parikrama ( Circumblation ) was of 200 kms , But now the route is been shorterned. This region gives a wonderful introduction of confluence of Hinduism and Buddhism. The temples of Baspa Valley in Kinnaur are fine example of pagoda architecture with extraordinary wooden carvings. Kinnaur is a very traditional place and tribal customs and traditions still hold sway over most of it. In some of the more remote side valleys and villages Shamanism is still practised along with animistic rituals.
Kinnaur invariably leaves an indelible impact on the travelers because of its unmistakable and intense spiritual aura and palpable Himalayan Mysticism. For this is the land where Lord Shiva is believed to reside on the Famed Mount Kinner Kailash considered to be one of his favourite haunts.  Kinnar Kailash Parikrama trek is also known as Charang Pass / Lalanti Pass Trek takes us to Kinnaur, Charang pass trek is high altitude trek in the Kinnaur valley. The land of fairy tales and fantasies. It has a spectacular terrain of lush green valleys, orchards, vineyards snow-clad peaks and cold desert mountains. The district of Himachal Pradesh Kinnaur is also rich in flora & fauna and its culture and language is different from other parts of the state.
The landscape of the area varies from the lush green orchards of the scenic Sangla Valley to the stark magnificence of the Hangrang valley. The massive snow clad ranges that provide a regal dignity to the scene are dominated by the peak of Kinnar Kailash.The massive snow clad ranges that provide a regal dignity to the scene are dominated by the peak of Kinnar Kailash. Laks of  devotees from India and abroad  comes here pilgrimage visit every year.  Although you can trek this place from May to September, but the Best time to visit the sacred place is 15 June to July when climate is suitable to all types of trekkers.
The Actual trek is starting from Lambhar. This trek is packed not only with demanding days trekking and stunning high Himalayan scenery, but brims with a rich history of trade, religion, and diverse ethnic groups that make for an experience for both body and soul.The tour iternary is give below and can be customised as per visitors interest. reception can be also at Kalpa.

Kinner Kailash Yatra In Hindi:

Kinner Kailash Yatra, Himachal Pradesh, Story in Hindi : यह हैं किन्नर कैलाश, कहते है महादेव के इस धाम में जाने की इंसान एक बार ही कर पाता है हिम्मत तिब्बत स्थित मानसरोवर कैलाश के बाद किन्नर कैलाश को ही दूसरा बडा कैलाश पर्वत माना जाता है। सावन का महीना शुरू होते ही हिमाचल की खतरनाक कही जाने वाली किन्नर कैलाश यात्रा शुरू हो जाती है। इस यात्रा के बारे में कहा जाता है कि इस यात्रा को अपने जीवन काल में आम आदमी एक ही बार करने की हिम्मत जुटा पाता है। इस स्थान को भगवान शिव शीतकालीन प्रवास स्थल माना जाता है। किन्नर कैलाश सदियों से हिंदू व बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए आस्था का केंद्र है। इस यात्रा के लिए देश भर से लाखों भक्त किन्नर कैलाश के दर्शन के लिए आते हैं। किन्नर कैलाश पर प्राकृतिक रूप से उगने वाले ब्रह्म कमल के हजारों पौधे देखे जा सकते हैं।
KInner Kailash Yatra

भगवान शिव की तपोस्थली किन्नौर के बौद्ध लोगों और हिंदू भक्तों की आस्था का केंद्र किन्नर कैलाश समुद्र तल से 24 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है। किन्नर कैलाश स्थित शिवलिंग की ऊंचाई 40 फीट और चौड़ाई 16 फीट है। हर वर्ष सैकड़ों शिव भक्त जुलाई व अगस्त में जंगल व खतरनाक दुर्गम मार्ग से हो कर किन्नर कैलाश पहुचते हैं। किन्नर कैलाश की यात्रा शुरू करने के लिए भक्तों को जिला मुख्यालय से करीब सात किलोमीटर दूर राष्ट्रीय राजमार्ग-5 स्थित पोवारी से सतलुज नदी पार कर तंगलिंग गाव से हो कर जाना पडता है। गणेश पार्क से करीब पाच सौ मीटर की दूरी पर पार्वती कुंड है। इस कुंड के बारे में मान्यता है कि इसमें श्रद्धा से सिक्का डाल दिया जाए तो मुराद पूरी होती है। भक्त इस कुंड में पवित्र स्नान करने के बाद करीब 24 घटे की कठिन राह पार कर किन्नर कैलाश स्थित शिवलिंग के दर्शन करने पहुचते हैं। वापस आते समय भक्त अपने साथ ब्रह्मा कमल और औषधीय फूल प्रसाद के रूप में लाते हैं।

1993 में से शुरू हुई यात्रा

1993 से पहले इस स्थान पर आम लोगों के आने-जाने पर प्रतिबंध था। 1993 में पर्यटकों के लिए खोल दिया गया, जो 24000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यहां 40 फीट ऊंचे शिवलिंग हैं। यह हिंदू और बौद्ध दोनों के ‍लिए पूजनीय स्थल है। इस शिवलिंग के चारों ओर परिक्रमा करने की इच्‍छा लिए हुए भारी संख्‍या में श्रद्धालु यहां पर आते हैं।

पौराणिक महत्व:

किन्नर कैलाश के बारे में अनेक मान्यताएं भी प्रचलित हैं। कुछ विद्वानों के विचार में महाभारत काल में इस कैलाश का नाम इन्द्रकीलपर्वत था, जहां भगवान शंकर और अर्जुन का युद्ध हुआ था और अर्जुन को पासुपातास्त्रकी प्राप्ति हुई थी। यह भी मान्यता है कि पाण्डवों ने अपने बनवास काल का अन्तिम समय यहीं पर गुजारा था। किन्नर कैलाश को वाणासुर का कैलाश भी कहा जाता है। क्योंकि वाणासुरशोणित पुरनगरी का शासक था जो कि इसी क्षेत्र में पडती थी। कुछ विद्वान रामपुर बुशैहररियासत की गर्मियों की राजधानी सराहन को शोणितपुरनगरी करार देते हैं। कुछ विद्वानों का मत है कि किन्नर कैलाश के आगोश में ही भगवान कृष्ण के पोते अनिरुध का विवाह ऊषा से हुआ था।

रंग बदलता है शिवलिंग:

Kinner Kailash Yatraशिवलिंग की एक चमत्कारी बात यह है कि दिन में कई बार यह रंग बदलता है। सूर्योदय से पूर्व सफेद, सूर्योदय होने पर पीला, मध्याह्न काल में यह लाल हो जाता है और फिर क्रमश:पीला, सफेद होते हुए संध्या काल में काला हो जाता है। क्यों होता है ऐसा, इस रहस्य को अभी तक कोई नहीं समझ सका है। किन्नौर वासी इस शिवलिंगके रंग बदलने को किसी दैविक शक्ति का चमत्कार मानते हैं, कुछ बुद्धिजीवियों का मत है कि यह एक स्फटिकीय रचना है और सूर्य की किरणों के विभिन्न कोणों में पडने के साथ ही यह चट्टान रंग बदलती नजर आती है।

 

हिमाचल का बदरीनाथ:

किन्नर कैलाश को हिमाचल का बदरीनाथ भी कहा जाता है और इसे रॉक कैसलके नाम से भी जाना जाता है। इस शिवलिंगकी परिक्रमा करना बडे साहस और जोखिम का कार्य है। कई शिव भक्त जोखिम उठाते हुए स्वयं को रस्सियों से बांध कर यह परिक्रमा पूरी करते हैं। पूरे पर्वत का चक्कर लगाने में एक सप्ताह से दस दिन का समय लगता है। ऐसी मान्यता भी है कि किन्नर कैलाश की यात्रा से मनोकामनाएं तो पूरी होती ही हैं। यहां से दो किलोमीटर दूर रेंगरिकटुगमा में एक बौद्ध मंदिर है। यहां लोग मृत आत्माओं की शान्ति के लिए दीप जलाते हैं। यह मंदिर बौद्ध व हिन्दू धर्म का संगम भी है। भगवान बुद्ध की अनेक छोटी-बडी मूर्तियों के बीच दुर्गा मां की भव्य मूर्ति भी स्थित है।

ऐसे शुरू होती है यात्रा- पहला दिन:

सबसे पहले सभी यात्रियों को इंडो तिब्‍बत बार्डर पुलिस पोस्‍ट पर यात्रा के लिए अपना पंजीकरण कराना होता है। यह पोस्‍ट 8,727 फीट की ऊंचाई पर है। यह किन्‍नौर जिला मुख्‍यालय रेकांग प्‍यो से 41 किमी की दूरी पर है। उसके बाद लांबार के लिए प्रस्‍थान करना होता है। यह 9,678 फीट की ऊंचाई पर है। जो 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां जाने के लिए खच्‍चरों का सहारा लिया जा सकता है।

दूसरा दिन:

इसके उपरांत 11,319 फीट की ऊंचाई पर स्थित चारांग के लिए चढ़ाई करनी होती है। जिसमें कुल 8 घंटे लगते हैं। लांबार के बाद ज्‍यादा ऊंचाई के कारण पेड़ों की संख्‍या कम होती जाती है। चारांग गांव के शुरू होते ही सिंचाई और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग का गेस्‍ट हाउस मिलता है, जिसके आसपास टेंटों में यात्री विश्राम करते हैं। इसके बाद 6 घंटे की चढ़ाई वाला ललांति (14,108) के लिए चढ़ाई शुरू हो जाती है।

तीसरा दिन:

चारांग से 2 किलोमीटर की ऊंचाई पर रंग्रिक तुंगमा का मंदिर स्थित है। इसके बारे में यह कहा जाता है कि बिना इस मंदिर के दर्शन किए हुए परिक्रमा अधूरी रहती है। इसके बद 14 घंटे लंबी चढ़ाई की शुरूआत हो जाती है।

चौथा दिन:

इस दिन एक ओर जहां ललांति दर्रे से चारांग दर्रे के लिए लंबी चढ़ाई करनी होती है, वहीं दूसरी ओर चितकुल देवी की दर्शन हेतु लंबी दूरी तक उतरना होता है।

भारत के मंदिरों के बारे में यहाँ पढ़े – भारत के अदभुत मंदिर
पौराणिक कहानियाँ यहाँ पढ़े – पौराणिक कथाओं का विशाल संग्रह

भगवान शिव से सम्बंधित अन्य लेख:

  • श्रीखंड महादेव यात्रा- अमरनाथ से भी कठिन है महादेव की यह यात्रा.
  • जानिए शिवपुराण के अनुसार भगवन शिव को कौनसी चीज़ चढाने से मिलता है क्या फल.
  • भगवान शिव को प्रसन्न करने के उपाय (राशि अनुसार).
  • बिजली महादेव- कुल्लू -हर बारह साल में शिवलिंग पर गिरती है बिजली.
  • शिवपुराण में वर्णित है मृत्यु के ये 12 संकेत.
Sending
User Review
0 (0 votes)